Category: Health News

पैरासिटामॉल के ज्यादा सेवन से लिवर खराब होने का खतरा, जानें कारण

Adhunik Samachar

बुखार या दर्द होने पर पैरासिटामॉल का सेवन करते हैं, तो सावधान हो जाएं। पैरासिटामॉल के ओवरडोज के कारण आपका लिवर खराब हो सकता है। जानें कितने मात्रा में पैरासिटामॉल है सुरक्षित।

बुखार और दर्द से राहत दिलाने के लिए पैरासिटामॉल एक मशहूर दवा है। आप या आपके आसपास ऐसे लोग जरूर होंगे, जो बुखार और दर्द में बिना किसी डॉक्टर की सलाह लिए पैरासिटामॉल लेकर खा लेते हैं। मगर क्या आप जानते हैं कि पैरासिटामॉल के ज्यादा इस्तेमाल से आपका लिवर खराब हो सकता है। जी हां, हेल्थ प्रोडक्ट्स की सुरक्षा से जुड़ी फ्रेंच एजेंसी ANSM ने हाल में घोषणा की है कि पैरासिटामॉल वाली सभी दवाओं पर "ओवरडोज डेंजर (Overdose Danger)" मैसेज जरूर लिखें। भारत में भी पैरासिटमॉल दवा का इस्तेमाल बहुत ज्यादा किया जाता है।

गौरतलब है कि पैरासिटामॉल के इस्तेमाल वाली 200 से ज्यादा दवाएं बाजार में मौजूद हैं। इन दवाओं को लोग बिना किसी डॉक्टरी सलाह के मेडिकल स्टोर से लेकर खा लेते हैं। जिन लोगों को अक्सर दर्द या बुखार रहता है, वो धीरे-धीरे इस दवा के आदी हो जाते हैं। लंबे समय तक इस दवा के इस्तेमाल से कई तरह के खतरे हो सकते हैं। पैरासिटामॉल आपके लिवर को पूरी तरह खराब कर सकता है, जो कई बार जानलेवा हो सकता है।

पैरासिटामॉल भारत ही नहीं, दुनियाभर में दर्दनिवारक (anti-pain) और बुखार ठीक करने वाली (anti-fever) दवा के रूप में इस्तेमाल की जाती है। डॉक्टर्स भी पैरासिटामॉल अपने प्रेस्क्रिप्शन में खूब लिखते हैं। वयस्कों के साथ बच्चों को भी ये दवा खूब दी जाती है। छोटे बच्चों के लिए पैरासिटामॉल का ज्यादा इस्तेमाल और ज्यादा खतरनाक होता है क्योंकि उनके अंग पूरी तरह विकसित नहीं होते हैं।

सिद्धार्थनगर के वरिष्ठ चिकित्साधिकारी डॉ. राम आशीष बताते हैं कि, "डॉक्टर की सलाह से ही आपको पैरासिटमॉल जैसी दवाओं का सेवन करना चाहिए। वैसे तो ये दवा सुरक्षित भी है और असरकारी भी है, मगर इसके ज्यादा इस्तेमाल के शरीर के कुछ अंदरूनी अंगों पर बुरे प्रभाव दिख सकते हैं। लोग आजकल बुखार आने और दर्द होने पर बिना सोचे-समझे पैरासिटामॉल का सेवन कर लेते हैं। आपको जानकर हैरानी होगी कि ड्रग्स के कारण होने वाले लिवर ट्रांस्प्लांट के ज्यादातर मामलों में पैरासिटामॉल को इसका कारण पाया गया है।"

ANSM की रिपोर्ट के मुताबिक अगर आप रोजाना 4 ग्राम से ज्यादा पैरासिटामॉल का इस्तेमाल करते हैं, तो आपका लिवर 24 से 48 घंटे के भीतर ही डैमेज हो सकता है। लिवर डैमेज होना बहुत खतरनाक स्थिति होती है। ज्यादा गंभीर स्थिति में लिवर ट्रांसप्लांट के अलावा कोई विकल्प नहीं बचता है।